ज्योतिषशास्त्र : आयुर्वेदा

कब्ज के कारण, आयुर्वेदिक उपचार एवं गृह उपचार

संदीप पुलस्त्य

3 साल पूर्व

kabj-ayurvedic-constipation-TREATMENT-jyotishshastra-hd-image-png


 

कब्ज, मल त्याग की धीमी प्रक्रिया से भी उप्पर के स्तर में आता है। आयुर्वेद के अनुसार, कब्ज असंतुलित वात एवं मल वाहिनियों में उत्पन्न अवरोधों का संकेत है। डिप्रेशन एवं गठिया के रोगी में कब्ज के लक्षण आमतौर पर देखने को मिलते हैं। माइग्रेन के रोगी को भी कब्ज हो सकती है। कुछ केसों में देखा गया है कि रोगी को कब्ज से राहत मिलने पर उसके माइग्रेन एवं अवसाद के रोग में भी राहत मिल जाती है।

हालांकि कब्ज एक साधारण समस्या है, किन्तु यदि समय रहते उचित चिकित्सा न मिले अथवा इसकी उपेक्षा कि जाए तो यह एक विकराल समस्या का रूप धारण कर सकता है। इसलिए इसे तत्काल ही गंभीरता से लेने कि आवश्यकता रहती है |

 

कब्ज के साथ वास्तविक समस्या :-

कुछ लोगों का मानना है कि कब्ज होने पर, आंतों के अंदर अन्य गन्दगी भी फंस जाती है। उन अपशिष्ट पदार्थों के कारण कई प्रकार की जटिलताएं आ जाती है | किन्तु वास्तव में इसके पीछे का कारण बहुत गहरा होता है | बड़ी आंत को एक निश्चित समय तक ही मल को स्टोर करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसलिए, कुछ और अधिक समय के लिए मल को रोककर रखना इसके लिए कोई बड़ी बात नहीं है | वास्तविक समस्या यह है कि लंबे समय के लिए मल का बाहर न निकलना यकृत, मस्तिष्क, प्रतिरक्षा प्रणाली आदि के लिए गलत संकेत भेजती है, जो माइग्रेन के साथ साथ अन्य जटिलताओं को भी जन्म देती है |

 

कब्ज के लिए उत्तरदायी कारक :-

मल के मुक्त प्रवाह / निष्कासन के लिए वात उत्तरदायी कारक है। जब वात की कार्यप्रणाली प्रभावित होती है, तो इसके परिणामस्वरूप कब्ज की समस्या उत्पन्न होती है।

 

कब्ज के कारण :-

♦   शुष्क, हल्के, गरिष्ठ गुणों वाले भोजन का सेवन |

♦   कोई भी भोजन जो मुंह के सूखेपन, शरीर में हल्कापन और त्वचा में खुरदरापन का कारण बनता है।

♦   तीक्ष्ण, कसैले एवं नमक युक्त खाद्य पदार्थों के अत्यधिक खपत |

♦   देर रात तक जागना |

♦   पानी का कम सेवन |

♦   अधिक धूप में काम करना |

♦   लंबी पैदल यात्रा करना |

♦   अत्यधिक लंबे समय के लिए एक ही स्थान पर बैठे रहना |

♦   रेशेयुक्त आहार का कम सेवन |

♦   पार्किंसंस रोग जैसे तंत्रिका संबंधी विकार |

♦   एण्टासिड्स का अत्यधिक उपयोग |

♦   डिप्रेशन

♦   गठिया रोग |

♦   गर्भावस्था - भ्रूण आंतों पर दबाव डालते हैं, जिससे मल की चाल में कमी होती है |

♦   पेट का कैंसर

♦   आंत में अवरोध - आंतों का उलझ जाना |

 

आयुर्वेद के अनुसार कब्ज के रोग विज्ञान :-

वात के असंतुलन कारकों के कारण, वात अत्यधिक बढ़ जाता है जिस कारण यह बड़ी आंत के निचले हिस्से में अवरुद्ध हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप कब्ज होती है। रोगी द्वारा दर्द के साथ पूर्ण कब्ज या कठोर मल की शिकायत की जाती है।

 

कब्ज की जटिलताएं :-

अगर शिकायत के कारकों को लंबे समय तक अनदेखा या उपेक्षित किया जाता है तो आगे चलकर यह बवासीर, फ़िशर,पेट के गैसीय अवयव, सूजन, कड़ापन, पत्थर की तरह कठोर मल, सिरदर्द, यकृत विकार और विभिन्न चयापचय ( मेटाबोलिक ) के साथ-साथ आंत रोग भी उत्पन्न हो सकते हैं। कुछ व्यक्तियों में पीठ दर्द, रिवर्स पेरिस्टलस आदि के लक्षण भी उभर आते हैं।

 

कब्ज को रोकने के लिए युक्तियाँ :-

♦   अपने आहार में फाइबर शामिल करें, बहुत सारे फल, सब्जियां, फलियां, मक्का (चोकर), फूलगोभी, किशमिश, गोभी, बेरी, हरी पत्तेदार सब्जियां, अजवाइन, सेम, अमरूद, अंजीर, अलसी का बीज, पालक, नारंगी, मशरूम।

♦   अपने लंच या डिनर में फल और सब्जी के मिश्रित सलाद का सेवन सुनिश्चित करें |।

♦   पूरे दिन पानी की अच्छी मात्रा में पिएं।

♦   ध्यान दें कि, एक सामान्य व्यक्ति में, आयुर्वेद केवल प्यास लगने पर ही पानी पीने की सलाह देता है लेकिन बीमारी की स्थिति में, जैसे कि कब्ज, पानी की अच्छी मात्रा लें |

♦   पानी के साथ साथ फाइबर समृद्ध आहार का अवश्य सेवन करें इससे आंत नरम रहती हैं व कब्ज की रोक थाम होती है।

♦   कॉफी और चाय के अधिक से बचें | कुछ लोगों को मल त्याग की इच्छा तब तक नहीं होती है जब तक की वे कॉफी या चाय न पी लें। यह सलाह ऐसे लोगों के लिए लागू नहीं है।

♦   दूध और डेयरी उत्पाद : यदि आपको लगता है कि कब्ज है, तो दूध और डेयरी उत्पादों का उपयोग कम से कम करें।

♦   व्यायाम : लंबी अवधि के लिए किसी एक ही स्थान पर न बैठें। दिन में कम से कम 15 - 20 मिनट के लिए पैदल चलें / जॉगिंग करें | data-matched-content-rows-num="2" data-matched-content-columns-num="2" data-matched-content-ui-type="image_stacked"

♦   मल को रोके नहीं : आयुर्वेद के अनुसार, मल त्याग की इच्छा एक प्राकृतिक संकेत है | इस संकेत का आभास होते ही तत्काल इसका त्याग करें क्यूंकि बार बार अधिक समय तक रोकने पर नियमित रूप से कब्ज हो जाती है।

♦   अत्यधिक मसालेदार भोजन, गरिष्ठ गैर शाकाहारी और तला हुआ भोजन खाने से बचें |

 

कब्ज की चिकित्सा हेतु युक्तियाँ :-

♦   दिन में दो से चार अतिरिक्त गिलास पानी पियें |

♦   गर्म तरल पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करने का प्रयास करें, प्रायः सुबह के समय पर |

♦   संध्या के समय एक कप गर्म पानी का सेवन करें |

♦   तेल मालिश करना सुनिश्चित करें |

 

अंतर्निहित कारणों का इलाज करना :-

अवसाद के मामले में, कब्ज के अलावा, अवसाद के लक्षणों का भी इलाज होना चाहिए।

इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम (आईबीएस) या संवेदनशील आंत संलक्षण के मामले में, जहां कुछ मामलों में कब्ज के लक्षण हैं, पाचन प्रक्रिया में सुधार को महत्व दिया जाना चाहिए।

जहां कब्ज के मामले में, माइग्रेन एवं रुमेटाइड आर्थराइटिस (संधिशोथ) के लक्षण जुड़े हैं वहां संबंधित बीमारी को उपचार में उचित ध्यान दिया जाना चाहिए।

 

हल्के कब्ज में उपयोगी जड़ी-बूटियां :-

♦   हरीतकी

♦   आरग्वध

♦   मुनक्का

♦   पटोला

♦   कटुकारोहिणी

♦   अरंडी का तेल (कास्टर का तेल)

 

जटिल कब्ज में उपयोगी जड़ी-बूटियां :-

♦   जायफल

♦   दंति

♦   त्रिवृत

 

कब्ज के लिए सरल उपचार :-

♦   सुबह 10-15 मुनक्का पानी में भिगोएँ और रात में इसका उपभोग करें।

♦   गाय के शुद्ध देशी घी का 1 चम्मच, एक कप (150 मिलीलीटर) गर्म पानी में मिलाएं। गैर-मधुमेह रोगी इस मिश्रण में, 1 चम्मच शक्कर को भी मिला सकते हैं | रात में सोते समय इसका सेवन करें | यह हल्के कब्ज में अत्यधिक प्रभावी है।

♦   जिनको मल कड़ा अथवा गाँठ के रूप में निकलता है उनको, रात में गर्म दूध के साथ गुलकंद का सेवन करना लाभदायक रहता है |

♦   अमलतास ( आरग्वध ) फल के गूदे (10 ग्राम) को पानी या दूध के साथ सेवन करें | यह पुरानी से पुरानी कब्ज में भी राहत देने में सहायक है |

♦   केस्टर (एरंडी) के 2-4 पत्तियों को लेकर पीस लें व एलो वेरा के गूदे के साथ मिलाकर सेवन करें | जो व्यक्ति अक्सर कब्ज से पीड़ित रहते हैं यह उनके लिए लाभदायक है |

♦   आहार में एलो वेरा के गूदे का नियमित उपयोग कठोर मल से बचाव करता है।

 

कब्ज के लिए योगासन :-

पवन मुक्तासन, उत्तना पादासन एवं अन्य ऐसे आसान जो पेट पर दबाव डालते हैं कब्ज के उपचार में बहुत उपयोगी होते हैं।

 

दवाएं जो कब्ज पैदा करती हैं :-

एलोपैथिक दवाएं, तनाव मुक्ति की दवाएं, आयरन सप्लीमेंट्स, एल्यूमीनियम युक्त एंटासिड, कब्ज पैदा कर सकती है।

आयुर्वेदिक दवाएं जिसमें गग्गुलू और सालाकी को अवयवों के रूप में उपस्थित रहते हैं, कब्ज बढ़ाने में सहायक है। ऐसे रोगियों को दुष्प्रभाव से बचाव हेतु आमतौर पर त्रिफला चूर्ण के सेवन किया जाना उचित रहता है ।

 

कब्ज की कारक जड़ी बूटियां :-

♦   फालसा फल

♦   अखरोट

♦   जामुन

♦   कुपिलू

 

जुलाब के लिए सावधानी :-

लंबी अवधि के लिए जुलाब के कारण के कारण अंततः कब्ज बिगड़ती है। इसलिए, जब आपको कब्ज के लिए एक दवा या औषधि निर्धारित की जाती है, तो दवाओं या औषधियों पर निर्भरता को रोकने के लिए अपनी जीवन शैली और आहार की आदतों को बदलने के लिए सक्रिय रहें ।

 

नोट : अपने जीवन से सम्बंधित जटिल एवं अनसुलझी समस्याओं का सटीक समाधान अथवा परामर्श ज्योतिषशास्त्र के  हॉरोस्कोप फॉर्म के माध्यम से अपनी समस्या भेजकर अब आप घर बैठे ही ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं | अधिक जानकारी आप ज्योतिषशास्त्र के  FAQ's पेज से प्राप्त कर सकते हैं |

 

 

© The content in this article consists copyright, please don't try to copy & paste it.

सम्बंधित शास्त्र
हिट स्पॉट
राइजिंग स्पॉट
हॉट स्पॉट