------------> ------------>

Instructions:


वास्तु परामर्श :-

वास्तुशास्त्र का महत्व :
प्रकृति के नियमों पर आधारित, निर्माण की तकनीकी और वैज्ञानिक कला है- वास्तु। वास्तुशास्त्र पांच शक्तिशाली तत्वों अर्थात पंचतत्वों [ पृथ्वी, वायु, अग्नि, जल एवं आकाश ] व पृथ्वी की तीन शक्तियों [ गुरुत्वाकर्षण, चुंबकीय व ब्रह्मांडीय ऊर्जा ऊर्जा ] पर आधारित एक विज्ञान है, इस प्रकार निर्माण में इन पांच तत्वों और तीन शक्तियों का उचित उपयोग प्रकृति के अनुकूल कर, मानव जीवन में सुख, समृद्धि एवं शांति भर सकते हैं।

वास्तु के प्रत्येक नियम का हम पर प्रभाव पड़ता है- निर्माण के लिए भूमि का चयन, इसके माप, दिशा, किस स्थान पर अग्नि होनी चाहिए, कौन सा स्थान जल भंडारण के लिए उपयुक्त है, किस दिशा को ऊंचा किया जाना चाहिए किस दिशा को नीचा, कहाँ शयनकक्ष होना चाहिए, कहाँ शौचालय, सीढ़ियां, दरवाजे, खिड़कियां इत्यादि होना चाहिए | यह सब पुराणों में वास्तु-पुरुष की धारणा से सिद्ध है। न केवल भवन की संरचना बल्कि अंदरूनी भागों में रखने वाले रहन-सहन, साज-सज्जा की वस्तुओं को भी वास्तु नियमों के अनुसार की रखना चाहिए।

मानव शरीर का एक या दूसरा अंग वास्तु-पुरुष के अंग से संबंधित है, इस प्रकार निर्माण के समय, देखभाल की जानी चाहिए कि वास्तु-पुष्ष के शरीर का प्रत्येक अंग बरकरार रहता है। अगर उसका शरीर विचलित हो जाता है, तो यह स्वाभाविक है कि उस शरीर के हिस्से से उत्पन्न होने वाली समस्याएं मकान मालिक या उसके परिवार में पाए जाएंगी। यदि निर्माण वास्तु के साथ किया गया है, तो व्यक्ति सफलता की सीढ़ियों पर चढ़ता है, जबकि इसके खिलाफ किए गए निर्माण में अवांछित परिणाम अवांछित होते हैं।

वास्तु का महत्व आवासीय एवं व्यावसायिक दोनों प्रकार के स्थानों के लिए एक सामान व महत्वपूर्ण है | उद्योगों के निर्माण में, मशीनरी स्थापना के लिए स्थान, गोदाम, कच्चे माल हेतु स्थान, प्रेषण, शौचालय, प्रशासनिक कार्यालय हेतु स्थान, कर्मचारियों की बैठने की व्यवस्था, ऐसे प्रश्नों का उचित दिशा मूल्यांकन वास्तु के महत्वपूर्ण तत्व हैं।

मानव के लिए अपना भाग्य बदलना असंभव है क्योंकि ग्रह की दशा जन्म के समय ही लिख दी जाती है, किन्तु वास्तु की सहायता प्राप्त कर, मानव अपने प्रयासों का अधिकतम पारिश्रमिक प्राप्त कर सकता है, इस प्रकार वह अपने जीवन में सुख, शांति, सफलता को प्राप्त करने में सफल हो सकता है |

हमारी वास्तु विशिष्टता :
यदि आप किसी आवासीय अथवा व्यावसायिक भूखंड अथवा भवन आदि का निर्माण वास्तु पद्दति अनुसार करवाने की इच्छा रखते हैं अथवा पूर्व निर्मित किसी आवासीय अथवा व्यावसायिक भवन आदि में बिना टूट-फूट वास्तु अनुकूल बदलाव कराना चाहते हैं, तो आप ज्योतिषशास्त्र की वास्तुशास्त्र परामर्श सेवा का लाभ प्राप्त कर सकते हैं |

ज्योतिषशास्त्र वास्तु दोष के कारण उत्पन्न प्रत्येक समस्या जैसे परिवार में कलह, अकारण आपसी मनमुटाव, परिवार में बिखराव, बीमारी का घर न छोड़ना, मानसिक उलझन , तनाव, मानसिक रोग, चैन की नींद न आना, व्यापार न चलना, घाटा, व्यापार में पतन, संतान का पढ़ाई में मन न लगना, संतानहीनता, गर्भपात, अकाल मृत्यु, धन संचय न होना, अनावश्यक खर्चे होना, इलेक्ट्रॉनिक अथवा इलेक्ट्रिकल उपकरण जल्दी जल्दी खराब होना, बार बार चोट लगना, आग लगना आदि का सरल माध्यमों एवं उपायों से उत्कृष्ट समाधान देने हेतु ढृड़ संकल्पित हैं|

ज्योतिषशास्त्र वास्तु परामर्श सेवाएं दोनों माध्यमों ( 1. ऑनलाइन एवं 2. पर्सनल विजिट ) में उपलब्ध है :-
1. कोई भी जातक ( https://jyotishshastra.com/horoscope/service/vastu-consultation?user= ) वेब पेज पर जाकर भूखंड अथवा भवन के मानचित्र के स्कैन अथवा फोटोग्राफ फॉर्म के साथ संलग्न कर भेज सकता है व ऑनलाइन ही निराकरण प्राप्त किया जा सकता है |
2. साइट पर पर्सनल विजिट हेतु कांटेक्ट फॉर्म ( https://jyotishshastra.com/contactus ) के माध्यम से अपॉइंटमेंट प्राप्त किया जा सकता है |
3. 9520039039 पर व्हाट्सएप ( व्हाट्सएप हेतु यहाँ क्लिक करें ) अथवा कॉल ( समय :- प्रातः 9:00 से रात्रि 9:30 तक ) द्वारा साइट पर पर्सनल वास्तु विजिट हेतु अपॉइंटमेंट प्राप्त किया जा सकता है |

नोट : ऐसा निर्माण जिसका ढांचा अभी नहीं बना हैं अथवा पूर्व निर्मित ढांचा, से सम्बंधित ब्लू प्रिंट / मानचित्र के कंप्यूटर प्रिंटर द्वारा लिए स्कैन अथवा उच्च पिक्सल के कैमरे द्वारा लिए स्पष्ट फोटोग्राफ ज्योतिषशास्त्र.कॉम वेबसाइट की वास्तुशास्त्र सर्विस वेब पेज पर उपलब्ध फॉर्म के साथ संलग्न कर भेजें | ज्योतिषशास्त्र की ऑनलाइन वास्तुशास्त्र परामर्श सेवा के अंतर्गत निर्मित होने जा रहे भूखंड व भवन के मानचित्र का गहन अध्य्यन कर तदोपरांत आवश्यक वास्तु अनुकूल बदलाव के सम्बन्ध में परामर्श प्रदान किया जायेगा |

ज्योतिषशास्त्र द्वारा अपने यूज़र्स को वास्तु दोषों से सम्बंधित परामर्श प्रदान करने के अंतर्गत सम्बंधित जातक की जन्म कुंडली का भी गहन विश्लेषण किया जाता है जिससे की सम्बंधित जातक की समस्याओं का निवारण पूर्ण रूप से हो सके | सटीक वास्तु परामर्श प्रदान कर जातकों की समस्याओं का पूर्ण रूप से निवारण करना ही हमारा प्रथम व अंतिम उद्देश्य है। इसके समक्ष समय एवं अथक परिश्रम की सीमा बाध्यता का हमारे लिए कोई मोल महत्व नहीं है।

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

VASTU CONSULTANCY FEES (via PERSONAL VISIT)

For *Delhi, NCR
-------------------------

Residential :
Farm House :      Rs. 15,000
500 sq.m. & More :    Rs. 7,000
36 sq.m. to 499 sq.m. :    Rs. 5,000
Apartments :    Rs. 5,000
Small & Medium Size Land :    Rs. 5,000


Industry & Commercial :
1 Residence + 1 Industry ( upto 1 acre / 4.8 Beegha ) :    Rs. 16,000
1 Industry Medium Size ( up to 2000 sq.yd.) :    Rs. 10,000
Show Room / Shop ( up to 2000 sq.yd.) :    Rs. 10,000
*( Excluding Travelling Charges )

**Domestic ( India ) :
--------------------------

Per Day :    Rs. 20,000
Additional Day :    Rs. 10,000
**( Excluding Fair, Lodging & Boarding )

Note :- For Personal Vastu Visit of Acharya Gurudev Sandeep Pulastya Contact Us via :
Contact Form - Click Here
WhatsApp - Click Here / Call - 9:00 AM - 9:30 PM on (+91-9520 039 039 )
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


Vastu Consultation :-

Importance of Vastu :
The technical and scientific art of construction based on the laws of the nature is - Vastu. VastuShastra is the science based on five mighty elements [ Earth, Air, Fire, Water and Sky ] and the three forces of the Earth [ Gravitational, Magnetic and Cosmic Energy ], thus proper utilization of these five elements and the three forces in the construction compatible with the nature can fill human life with happiness, prosperity and peace.

Each rule of Vastu has its impact on us - selection of land for construction, its measurements, directions, at which place should fire be established, which place is suitable for water storage, which direction should be elevated, where should be the bedroom, where should be the toilets, staircase, doors, windows etc and all this has been proved by the assumption of Vastu-Purush in Puranas. Not only the building structure but also the interiors should be according to Vastu rules.

One or the other organ of human body is related to the organ of Vastu-Purush, thus at the time of construction, care should be taken that each organ of the body of Vastu-Purush remains intact. If his body is mutilated, it is natural that problems arising from that body part will be found in the landlord or his family. If the construction has been done accord with Vastu, the individual ascends the stairs of success, whereas the construction done against it gets undesired inauspicious results.

The importance of Vastu is same for both residential and commercial places. In the construction of industries, place for machinery installation, go down, raw-material, dispatch, toilets, admin office place and seating arrangements of staff, proper direction assessment of such questions are important elements of Vastu.

It is impossible for human being to change the destiny because the planetary dasha are fixed right at the time of birth but with the help of Vastu, one is able to get the maximum remuneration of his efforts, thus can succeed in carrying out peace in his/her life.

Our Vastu Specifications :
If you want to build your house, office etc. in accordance with the Vastu system, or you want to make Vastu favorable change in a pre-construct residential or commercial building, without any break through, you can grab the benefits of VastuShastra Consulting Service of JyotishShastra.

JyotishShastra is conceptualized to solve every problem by simple and effective remedies which are arising out of Vastu defect, such as- unwanted family disputes, breakups, misunderstandings, long term disease influence, long term or repeated mental disturbance, sleeping disorders, interruption or loss in business, or career, less or no concentration of children in studies, problems in career, no child or difficulty in childbirth, regular miscarriage, sudden untimely death, no or less money savings, unwanted expenditures, repeatedly bad performance of electronics and electrical equipment, repeated hurt by fall or by any equipment, fire and etc.

JyotishShastra Offers Vastu Consultation Services in two mediums ( 1. Online & 2. Site Personal Visit ) :-
1. A person can share computerized scan or camera pic of map of land / structure with JyotishShastra by attaching it with Form available on Website Link ( https://JyotishShastra.com/horoscope/service/vastu-consultation ) & can get online solutions just by sitting at place.
2. A person if wants to get remedial solution(s) via personal visit, then he/she has to take prior-appointment. To get appointment a person has fill the Contact Form ( https://jyotishshastra.com/contactus ) available on JyotishShastra website to get prior-appointment. Acharya Sandeep Pulastya visit a site only after appointment fixed.
3. Vastu Visit Appointment can also be taken through WhatsApp To WhatsApp Click Here / or Call on 9520039039 ( Call Timings:- 9:00 AM to 9:30 PM )

Note :  A structure has not yet been formed or a structure in pre constructed position; send JyotishShastra its blue print / map clear computerized scan or photo clicked with high-pixel camera along with horoscope. JyotishShastra will go thorough deeply of the blue print / map and then gives consultation with respect to the necessary Vastu favorable architectural changes.

In processing Vastu remedial solutions JyotishShastra also deeply analyse the birth horoscope of individual. This method of rectification helps an individual to completely overcome from difficulties and problems.



Vastu Consultation
Service Price Rs. 3511
Apply Discount Coupon Code
Apply

Please Enter Your Birth Details:

(*all fields are essentials)

Upload Images:

Add More
Delete

Note: 1. For Vastu Shastra consultation send blueprint / map of your house, shop, office, hotel, shopping complex with clearly & completely mentioned informations.
2. For better & accurate horoscope predictions & solutions it is advised to upload both right & left palm high pixels images with horoscope form.