ज्योतिषशास्त्र : मन्त्र आरती चालीसा

औषधि प्रभावशीलता वर्धक शास्त्रीय मन्त्र

Sandeep Pulasttya

4 साल पूर्व

aushadhi-shastriya-mantra-medicine-effect-jyotishshastra-astrology-hd-image-png

 

शास्त्रीय मन्त्र कई प्रकार के होते है। अक्सर देखने सुनने को मिलता रहता है कि फलां साधु अथवा फकीर, ने एक मन्त्र पढ़ा और रोगी का रोग दूर हो गया। यह कोई जादू नहीं बल्कि शास्त्रीय मन्त्रों का प्रभाव है जिससे साधु अथवा फकीर आमजन को चमत्कृत एवं उपकृत करते रहते हैं। इन मन्त्रों को कोई भी व्यक्ति जप साधना से सिद्ध कर सकता है। ये अपना प्रभाव सिद्ध होने के पश्चात ही दिखाते हैं। जो व्यक्ति इन्हे सिद्ध कर लेता है वही व्यक्ति इन्हे क्रियाशील कर सकता है। शास्त्रीय मन्त्रों की जप साधना अपेक्षाकृत सरल है एवं इनका प्रभाव प्रबल व अचूक है। यहाँ हम शास्त्रीय मन्त्रों के अंतर्गत औषधि प्रभावशीलता वर्धक मन्त्र उसकी प्रयोग विधि सहित प्रस्तुत कर रहे हैं -

 

औषधि प्रभावशीलता वर्धक मन्त्र :

ओइम् ह्नीं सर्वते श्रीं क्लीं सर्वोषधि प्राणदायिनी

नै़ऋत्ये नमोनमः स्वाहा।

 

प्रयोग विधि -   

किसी भी रोगी को औषधि देने से पूर्व, उस औषधि पर इस मन्त्र को पढ़ते हुए 8 बार फूंक मारने से वह औषधि अधिक प्रभावशाली हो जाती है। औषधि के गुण धर्म में वृद्धि हो जाती है। वस्तुतः किसी सूर्य अथवा चन्द्र ग्रहण अथवा किसी अन्य शुभ अवसर जैसे होली अथवा दीपावली पर इस मन्त्र की एक माला जप करके उसके पश्चात दशांश हवन कर देने से यह मन्त्र विशेष प्रभावशाली हो जाता है।

 

नोट : अपने जीवन से सम्बंधित जटिल एवं अनसुलझी समस्याओं का सटीक समाधान अथवा परामर्श ज्योतिषशास्त्र  हॉरोस्कोप फॉर्म के माध्यम से अपनी समस्या भेजकर अब आप घर बैठे ही ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं |

 

© The content in this article consists copyright, please don't try to copy & paste it.

सम्बंधित शास्त्र
हिट स्पॉट
राइजिंग स्पॉट
हॉट स्पॉट